Send Publishing Related Queries on : publisherbbp@gmail.com

EMAIL

info@bookbazooka.com

Call Now

+91-7844-918767

Teri Mohabbat Ke Ashk तेरी मोहब्बत के अश्क

तेरी मोहब्बत के अश्क

संजय तांडेकर

खंजर बना दिया
मोहब्बत का एक घर था मेरा
लोगो ने उसे खंडहर बना दिया
मेरी मिठास मे जहर घोलकर
मुझे एक खारा समंदर बना दिया।
एक फुल सी थी जिंदगी मेरी
एक फूल सी थी जिंदगी मेरी
नफरते यूँ दिल मे कभी ना थी
छीनकर मेरी जीने की वजह
दुनिया ने मुझे बवंडर बना दिया।
खूब घिसा-पिटा लोगो ने मुझे
अपने-अपने मतलब के हिसाब से
था मैं एक लोहे का टुकड़ा म़गर
हालात ने मुझे खंजर बना दिया।
जिंदगी के गुजर-बसर के लिये
चलता रहा मजबूरियों का खेल
वक्त ने सबको शंहशाह बनाया
मुझे मदारी का बंदर बना दिया।
जमाना जुल्मो-सितम करता रहा
और इंसानियत मेरी मरती रही
था मै भी कभी इंसान ही लेकिन
जानवरो ने मुझे जानवर बना दिया।