Send Publishing Related Queries on : publisherbbp@gmail.com

EMAIL

info@bookbazooka.com

Call Now

+91-7844-918767

champak chuha avam anya baal kavitaye

चम्पक चूहा एवं अन्य बाल कविताएँ

डॉ प्रणव भारती

बाल-मन जितना सुलभ होता है उतना ही हठी भी ! हम बड़े उनके हठ पूरे भी करते रहते हैं | किन्तु कुछ हठ ऐसे होते हैं जो हर समय पूरा करना बच्चों के प्रति अन्याय हो जाता है | आज हम जहाँ देखते हैं बच्चे पीज़ा, बर्गर तथा अन्य जंक-फ़ूड की ओर भागते दिखाई देते हैं जबकि उनके शरीर और मन को पोषक खाद्य-पदार्थों की ज़रुरत होती है | देखा गया है कि कहानी व कविता के माध्यम से बच्चे पोषक खाद्य-पदार्थों में रूचि लेने लगते हैं | बच्चे अपने स्कूल में शिक्षिका के द्वारा सुनाई गई कहानी व गीत से प्रभावित होकर उन कामों में भी रूचि लेने लगते हैं जो उन्हें बिलकुल पसंद नहीं होते| इस पुस्तक की रचनाएँ बच्चों को प्रेरित करने के लिए लिखी गई हैं जिनका प्रारंभ चूहे के माध्यम से खाने का महत्व समझाने की रचना से किया गया है | साथ ही रचनाओं के माध्यम से मनोरंजनपूर्ण रूप में बच्चों को संदेश देने का भी प्रयास किया गया है |

  • In LanguageHindi
  • GenreKids Stories
  • Date Published 08th July 2018
  • Buy Now Paperback
  • ISBN978-93-86895-41-7
  • पुस्तक order करने में किसी भी समस्या की स्तिथि में तथा bulk आर्डर के लिए कॉल करें 7844918767 (अर्पित जी) पर